नया नजरिया, नयी सोच

बुधवार, नवंबर 1

प्यार की अधूरी शुरुवात


कहते हैं इश्क़ में, जलाते है अंगारें,
एक फूंक नाकाफी, दूर हैं सितारे|

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें